Chandrayan 3Chandrayan 3 in Moon orbit

चंद्रयान-3 (Chandrayan 3) अंतरिक्ष यान, जो चंद्रमा के बहुत करीब है, 5 अगस्त को चंद्र कक्षा में प्रक्षेपित किया जाएगा. 23 अगस्त तक सॉफ्ट लैंडिंग की उम्मीद है।

Follow us on Google News | Chandrayan 3
Follow us on Google News

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने शुक्रवार को बताया कि चंद्रयान -3 अंतरिक्ष यान ने अपनी यात्रा का लगभग दो-तिहाई हिस्सा पूरा कर लिया है, और 5 अगस्त को शाम 7:00 बजे के आसपास एक इसे चंद्रमा के कक्षा में प्रेक्षित (एलओआई) किया जाएगा।

अंतरिक्ष यान को चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण प्रभाव के भीतर लाने के लिए मंगलवार आधी रात को इसरो ने एक सफल प्रयोग किया जिसे पेरिजी बर्न कहते है। यह पृथ्वी से 288 किलोमीटर निकटतम और 3,69,328 किलोमीटर दूर सबसे दूर की कक्षा में परिभ्रमण करता रहा।

भारत का चंद्र मिशन- Chandrayan 3

भारत का चंद्र मिशन का अगला कदम यान को चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण प्रभाव के भीतर प्रक्षेपित करना ये सबसे मुश्किल कदम में से एक मना जाता है और इसी के सफलता के ऊपर भारत के इस मिशन की सफलता भी निर्भर करेगा। भारत 23 अगस्त के आसपास चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव यान की सॉफ्ट लैंडिंग करायेगा और अगर ऐसा हुआ तो भारत ऐसा करने वाला विश्व का चौथा देश बन जाएगा और साउथ लुनार पोल पर ऐसा करने वाला विश्व का पहला देश होगा।

Chandrayan 3
Chandrayan 3 during the Launch from Sri Hari Kota Space Centre

भारत का अलगा कदम Chandrayan 3 के लिए

जैसे जैसे चंद्रयान अपने गंतव्य के नज़दीक पहुँचता जाएगा प्रोपल्शन मोड्यूल इसकी ऊँचाई को धीरे धीरे कम करता जाएगा। चंद्रयान अगस्त के पहले सप्ताह में चंद्रमा के चारों ओर पांच से छह परिक्रमाएं पूरी करेगा और जो धीरे-धीरे 100 किलोमीटर की गोलाकार कक्षा में बदल जाएगी। अगले दस दिनों में, चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के भीतर एक निश्चित स्थान का पता लगाया जाएगा जहां इसकी सॉफ्ट लैंडिंग कराया जा सके। इसके बाद लैंडर अपनी कक्षा से नीचे उतरेगा और सॉफ्ट लैंडिंग होगी।

चंद्रमा के सूर्योदय को ध्यान में रखते हुए, इसरो चंद्र लैंडिंग कार्यक्रम पर सतर्क है। और ज़रूरत पड़ने पर लैंडिंग को सितंबर तक के लिये टाला जा सकता है। प्रत्येक सफलता के साथ, भारत का चंद्रयान-3 मिशन एक विशिष्ट चंद्र लैंडिंग लक्ष्य की ओर बढ़ता जा रहा है।

चंद्रयान-3 (Chandrayan 3) का क्या लक्ष्य है?

चंद्रयान-3 का उद्देश्य चंद्रयान-2 से लगभग समान है:

  • सफलतापूर्वक चंद्रमा की सतह पर सुरक्षित और सॉफ्ट लैंडिंग करना।
  • चंद्रमा के भूभाग पर रोवर को चंद्रमा के सतह पर घूमते हुए दिखाना।
  • चंद्रमा की सतह पर वैज्ञानिक प्रयोग करना।

यह भी पढ़ें

OMG 2 Trailer Release: आज 11 बजे रिलीज़ होगा OMG 2 का ट्रेलर, ग़दर २ से मुक़ाबला

Nitin Desai Suicide: आर्ट डायरेक्टर नितिन देसाई ने खुदकुशी कर ली, पैसों की कमी से परेशान थे, देवदास-लगान जैसी फिल्मों का निर्देशन किया


By Chandan Kumar

मेरा नाम चंदन कुमार है, मैं पिछले कई सालो से ब्लॉगिंग कर रहा हूँ। मैंने ब्लॉगिंग गूगल ब्लॉगर से साल 2015 में किया था। उसपर मैं पॉलिटिक्स, व्यंग, कविताएँ आदि के बारे में लिखता था। साल 2021 में मैंने यूट्यूब पर मोटों ब्लॉगिंग भी शुरू किया। अभी मैं Newsadda24 के लिए ब्लॉग लिखता हूँ। मैंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से हिन्दी लिटरेचर में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है।

One thought on “Chandrayan 3 – चंद्रयान ३ ने पूरा किया दो तिहाई सफ़र, आज पता चलेगा सफल होगा मिशन या असफल?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *